बदला न अपने आपको जो थे वही रहे Ghazal - निदा फ़ाज़ली
नवरात्र पर्व का माहात्म्य : आध्यात्मिक और वैज्ञानिक दृष्टिकोण
प्रेम और कुछ कविताएँ-रोहित ठाकुर
हिन्दी में सर्वप्रथम
Ghazal | मैं अपने साथ ग़ज़ल की किताब रखता हूँ
हिंदी भाषा में रोजगार के अवसर [करियर]  Career in Hindi language
बसंत पंचमी और सरस्वती पूजा  Basant panchami aur Saraswati puja
सुमधुर भावों की सुंदर प्रेम कविता love poem - लौट आओ