वफ़ा के शहर में




वफ़ा के शहर में तेरी गली बदनाम लिख दूँगा,
साँसों की सदा पर मौत का पैग़ाम लिख दूँगा ।
उठेगा दर्द जब दिल में  तुम्हारे वास्ते 'पंकज',
उमीदों की चिता पर बस तुम्हारा नाम लिख दूँगा।।


बाल कृष्ण द्विवेदी 'पंकज'



➤ यह भी पढ़ें-  चंद अशआर

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ